बृहद भागवतामृत

Course description: जैमिनी ऋषि से महाभारत सुनने के बाद, जनमेजय भक्ति के सागर में डूब गए। अधिक कृष्ण कथा सुनने के लिए उत्सुक, उन्होंने जैमिनी से अनुरोध किया कि वे महाभारत के अपने संस्करण को असाधारण मधुरता के साथ पूरा करें (मधुरेण समापयेत)। जनमेजय द्वारा इस प्रकार विनती होने पर, जैमिनी ने श्रीमद्भागवतम का वह सार बताया जो परीक्षित ने अपनी मां उत्तरा को शुकदेव गोस्वामी से श्रीमद भागवतम सुनने के बाद सुनाया था। यह कथा हमें श्रील सनातन गोस्वामी ने बृहद भागवतामृत के रूप में प्रस्तुत किया था। इसे जैमिनीय महाभारत का खिल (पूरक) भी कहा जाता है।

Course Contents: पाठ्यक्रम को दो भागों में बांटा गया है। पहले भाग में, कृष्ण की सर्वोच्च दया के प्राप्तकर्ता को खोजने के लिए, नारद मुनि ब्रह्मांड के विभिन्न स्तरों पर विभिन्न भक्तों से संपर्क करते हैं, अंत में गोपियों, विशेष रूप से श्रीमती राधारानी की महिमा करने के लिए व्रज पहुंचे। दूसरा भाग हमें एक भटकते हुए गोप कुमार की कहानी बताता है, जिसने वृन्दावन के एक निवासी से एक मंत्र प्राप्त किया और जो एक ग्रह से दूसरे ग्रह की यात्रा कर रहा था, चेतना के विभिन्न स्तरों में स्थित जीवों की खोज कर रहा था। अंत में, गोप कुमार गोलोक वृंदावन को प्राप्त करता है और वहाँ वह अपने जीवन की सर्वोच्च पूर्णता प्राप्त करता है और अपने इष्टदेव श्री कृष्ण की प्रेमपूर्ण सेवा करता है।

Course Materials: बृहद भागवतामृत
Course requirement: श्रीमद्भागवत की उचित समझ
Target Audience: रूप गोस्वामी और सनातन गोस्वामी के अनुयायी

Assessment Plan: पाठ्यक्रम के अन्त में बहुविकल्पीय प्रश्न

Be the first to add a review.

Please, login to leave a review
Add to Wishlist
Get course
Start Date: 09th Dec, 2021
Language: Hindi
Duration: 30 Hours
Video: 90 Mins Each
No. Of Sessions: 20
Sessions Per Week: 4
Days: Tue, Thu & Sat
Time: 7:00 to 8:30 PM IST